I want an essay of 80-100 words and advantages and disadvantages of Aadhunik sukh suvidayen ka Manav jeevan par prabhav

मित्र,इस बात में कोई शक नहीं है कि तकनीक हमारे जीवन का अआश्यक अंग बन गई है और इससे हमें बहुत लाभ भी हुआ है | किंतु आधुनिक तकनीक की इस चकाचौंध में मानवीय संवेदनाएँ जिस तरह मजाक बन कर रह गई है, उस तरफ बहुत कम लोगों का ध्यान गया है | लोगों के पास अब एक दूसरे के लिए समय ही नहीं रहा | लोग या तो काम में व्यस्त रहते हैं या आधुनिक उपकरणों में लगे रहते हैं | मोबाइल-कंप्यूटर-इंटरनेट इनसे लोगों को फुर्सत ही नहीं मिलती घरों में पहले लोग साथ में खाना खाते थे | रात को पूरा परिवार साथ में बैठकर टीवी देखता, एक दूसरे से बातें करते | यदि टीवी न हो तो जाकर पड़ोसियों से बातें करते | अब लोग बाहर से आते ही अपना-अपना मोबाइल लेकर बैठ जाते हैं | परिवारवालों को आपस में बात करने का समय ही नहीं | बच्चें माता-पिता से बात करने के बजाय मोबाइल पर चैट करना ज्यादा पसंद करते हैं | अभिभावकों को पता ही नहीं चलता कि मेरे बच्चें के जीवन में क्या हो रहा | एक दूसरे के प्रति जो भावनात्मक लगाव हुआ करता था, वो दिनों दिन कम हो रहा है | कई बार कंप्यूटर के दूसरे छोर पर बैठे अनजान व्यक्ति से हम घंटों बात करते हैं, उसके साथ अपनी कई बातें साझा करते हैं पर अपने परिवार वालों के साथ कई दिनों तक बातें नहीं होती | इससे परिवार के सदस्यों का एक दूसरे पर जो प्रेम हुआ करता था, अब वैसा नहीं रहा | एक ही घर में रहकर भी लोग एक दूसरे के लिए अजनबी हैं | तकनीक के आवश्यकता से अधिक प्रयोग से मनुष्य भावनाशुन्य होता जा रहा है

  • 0
In Hindi
  • 0
What are you looking for?