Vyakhya for jallianwala bagh mein basant by subhadra kumari chauhan.experts need your help here.post it quick

मित्र!
आपके प्रश्न के लिए हम अपने विचार दे रहे हैं। आप इनकी सहायता से अपना उत्तर पूरा कर सकते हैं।

सुभद्रा कुमारी चौहान ने `जलियाँ वाला बाग में बसंत` कविता में जलियाँ वाला बाग़ हत्याकांड के बारे में लिखा है।  अंग्रेजों के अत्याचार और उनके जुल्म के बारे में बताया है। ऐसा बाग़ है जहाँ कोयल नहीं है और केवल कौवे हैं अर्थात हिंसा करने वाले लोग हैं। बच्चे, बूढ़े, महिलाएँ और पुरुष सभी इस अत्याचार का  शिकार हैं. हर तरफ खून की नदियाँ बही हुई हैं और यहाँ का मौसम शौक का है। यहाँ पर उनकी कहानियों को गाने के रूप में कोयल को गाने को कहा है। गोली खा कर छोटे-छोटे बालक पड़े हुए हैं। इन लोगों पर फूल, श्रद्धा के रूप में चढ़ा देना। बुजुर्गों की दयनीय हत्या के बारे में लिखा है। अंत में कहा कि यहाँ सब कुछ करना बस शोर मत करना क्योंकि यह शोक स्थान है।      

  • -13
What are you looking for?